Tuesday, 21 March 2017

Beware if you wanna wear your emotions on the sleeve.. Fake it.. Dress it up.. 

Monday, 30 January 2017

नज़र धुंधलाए ज़माना हुआ है
ख़्वाब अब भी एच डी नज़र आ रहे हैं
ग़लती ये मैं कब से करने लगा
नौकरी से 'जुर'रत' दिल लगाने लगा

पत्थर पे रख के पत्थर,
पत्थर पे मारें पत्थर।
बच्चों का खेल था पर,
पानी हुए थे पत्थर।

पानी ने रंग बदला,
आँखों में उतर आया।
दरिया हुआ था पानी,
आँखें हुई थी पत्थर।

आँखों में इक ग़ुमां था,
सच में बदल गया जो।
रास आया न जहाँ को,
खाए ग़ुमां ने पत्थर।



जहां से उठा ले या गोदी उठा ले
महर होगी मौला मेरे ग़म उठा ले